What is python in Hindi- पाइथन क्या है? पाइथन कैसे सीखें?

What is python in hindi

What is python in Hindi – वर्ष 1990 से लेकर आज तक विश्व में सबसे अधिक प्रगति करने वाला क्षेत्र सूचना प्रौद्योगिकी का क्षेत्र रहा है। वर्ष 1990 से लेकर आज तक कंप्यूटर तकनीक का विकास तेजी से हुआ है। इस बात की पुष्टि के लिए कई तथ्य उपस्थित है।
1990 से लेकर कंप्यूटर तकनीक के क्षेत्र में कई हाई लेवल प्रोग्रामिंग भाषाओं का आविष्कार हुआ है जैसे सी++, जावा तथा अन्य ,
परन्तु जब हम 1990 के दशक की बात कर रहे हों तो पाइथन भाषा को नजरंदाज करना नामुमकिन है।
तो आज हम वर्ष 2022 की सबसे लोकप्रिय भाषा पाइथन पर चर्चा करेंगे । आइए जानते है आखिर क्या है पाइथन।

पाइथन का परिचय (What is python in Hindi)

पाइथन एक सामान्य कार्यों के लिए उपयोग की जाने वाली (General Purpose), इंटरप्रेटर (Interpreter) शैली पर कार्य करने वाली, उच्च स्तरीय (High Level), Dynamically Typed, आब्जेक्ट ओरिएंटेड (Object Oriented) प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। 

पाइथन भाषा की खासियत जो इसे अन्य भाषाओं से अधिक उपयोगी बनाती है, यह है कि इसका सिन्टेक्स (syntax) अन्य भाषाओं से एकदम आसान सामान्य अंग्रेज़ी भाषा में होता है जिससे नये programmers आसानी से इसके codes को पढ़ और समझ सकते हैं।
पाइथन भाषा में लिखे प्रोग्राम (program) को चलाने के लिए कोड को बार-बार कंपाइल करने अर्थात पूर्व संयोजित करने की आवश्यकता नहीं होती है।
यह इंटरप्रेटर शैली पर कार्य करती है जो एक नये developer के लिए बेहद मददगार साबित होता है।

इंटरप्रेटर शैली पर कार्य करने का अर्थ है पाइथन भाषा में code लाइन दर लाइन execute होता है और यदि किसी लाइन  में कोई error होती है तो प्रोग्राम वही execution को रोक देता है, जब तक उस error को ठीक नहीं कर दिया जाता तब तक अगली lines execute नहीं होती है।

 पाइथन भाषा को डिजाइन करते समय इसमें code readability पर जोर दिया गया है। क्योंकि यह एक ओपन सोर्स (open source) programming भाषा है इसका सोर्स कोड python.org पर free में उपलब्ध है।
कोई भी user इसका सोर्स कोड python.org से बिना कोई पैसे दिए download कर सकता है।

इसका सिन्टेक्स बहुत ही सामान्य तथा स्पष्ट होता है इसलिए इसे scripting भाषा के रूप में भी उपयोग किया जाता है।
पाइथन इंटरप्रेटर लगभग सभी प्रकार के operating systems जैसे windows, mac, UNIX आदि के लिए उपलब्ध है। 

सन् 1990 के दशक की ABC, ALGOL 68 , C, C++ , Dylan, Haskell, Icon, Java, Lisp एवं Perl जैसी कई प्रोग्रामिंग भाषाएँ जो पाइथन पर प्रभावी रहीं हैं। आज पाइथन भाषा हमारे समक्ष कई रूपों में प्रस्तुत है जैसे – 

  1. Cpython
  2. PyPy
  3. Stackless Python 
  4. Micro Python 
  5. Circuit Python 

पाइथन का इतिहास (History of Python in Hindi)

पाइथन प्रोग्रामिंग भाषा की रचना की शुरूआत वर्ष 1989 में Guido Van Rossum द्वारा एक शौक के तौर पर की गई थी । इसका पूर्ण विकास “पाइथन साफ्टवेयर फाउंडेशन” में हुआ।
1980 के दशक में Guido Van Rossum CWI (Centrum Wiskunde Informatica – National Research Institute for mathematics and computer science) में ABC भाषा के implementer के रूप में AMOEBA नामक नए distributed operating system के प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहे थे।
इस प्रोजेक्ट पर कार्य करते-करते उन्होंने ABC जैसे ही आसान सिन्टेक्स वाली एक scripting भाषा की तलाश शुरू की।

अपनी तलाश को जारी रखते हुए उन्होंने एक ऐसी भाषा डिजाइन करने के बारे में सोचा जो ABC जितनी ही सरल हो तथा ABC की सारी खामियों को दूर कर सके। अपने इस शौक को जिज्ञासा में बदलते हुए अंततः उन्होंने सन् 1991 में औपचारिक रूप से,
अपने द्वारा रची गई भाषा पाइथन के source code को USENET ( विश्वव्यापी वितरित चर्चा प्रणाली ) पर पोस्ट कर दिया।
पाइथन का  source code सार्वजनिक रूप से पोस्ट हो चुकने के कारण ही आज हमें मुफ्त में मिलता है। 

पाइथन का पहला संस्करण (python1.0)  1991 में पेश किया गया था। तब से लेकर अब तक इसके कई सारे संस्करण प्रकाशित हो चुके है, जिनमें से वर्तमान समय में इसका अंतिम संस्करण 24 मार्च 2022 को प्रकाशित किया गया है जिसका नाम Python3.10.4 है।

आपमें से कई लोग यह सोच रहे होंगे कि इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का नाम सांप की एक प्रजाति के नाम पर क्यों रखा गया है? सन् 1970 के समय में एक BBC  कॉमेडी शो आता करता था जिसका नाम Monty Python’s Fly Circus था।
Guido Van Rossum इस कॉमेडी शो के बड़े प्रशंसक थे, इसी कॉमेडी शो से प्रभावित होकर उन्होंने अपने द्वारा रची गई इस प्रोग्रामिंग भाषा का नाम “पाइथन” रखा।

What is python in Hindi

पाइथन क्यों सीखनी चाहिए (Why to learn python)

ज़ाहिर सी बात है आपके मन में ये सवाल तो जरूर आया होगा कि इतनी सारी भाषाओं के होते हुए आखिर पाइथन ही क्यों सीखें ? तो आइए जानते है कि आखिर पाइथन भाषा में ऐसी क्या खास बात है जो इसे वर्ष 2022 की सबसे लोकप्रिय भाषा बनाती है।

आज के दौर में IT क्षेत्र हर देश के infrastructure का आधार होता है। ऐसे में यदि आप एक सफल  इंसान बनना चाहते है तो आपको लैंग्वेज developer के तौर पर काम करना होगा। और यदि आप प्रोग्रामिंग की दुनिया में  ये हैं तो पाइथन भाषा आपके लिए सबसे उपयुक्त होगी, क्योंकि पाइथन न सिर्फ सीखने में सबसे आसान होती है बल्कि line by line errors को सामने लाकर आपको अपनी गलतियाँ सुधारने का अवसर भी देती है।

जिससे आपको शुरूआत से ही code लिखते समय अपनी गलतियों को समझकर उन्हें सुधारने की आदत हो जाएगी। इसके अतिरिक्त पाइथन बहुत बहुमुखी भाषा है।
इसे Data Science,  Scientific and Mathematical Computing, Web Development, Businesses and Economy, Systems Automation and Administration, Computer Graphics एवं  Game Development आदि,
कई सारे क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है। तो यदि आप पाइथन भाषा सीखते है तो आप इसकी मदद से हर क्षेत्र  में कार्य कर सकते है।

पाइथन को इसकी सादगी के कारण beginner friendly भी कहा जाता है। इसमें 125,000 से भी ज्यादा 3rd party libraries होती है जो आपको machine learning एवं web processing जैसे कार्यों करने में सहायता प्रदान करती हैं। 

पाइथन की विशेषताएं (Features of python in Hindi)

पाइथन भाषा में कई ऐसे फीचर्स हैं जो इसे अन्य भाषाओं से विशेष तथा आज के समय की सबसे लोकप्रिय भाषा बनाते हैं। यह statistical analysis एवं machine learning जैसे कार्यों को काफी हद तक आसान बना देती है।
इसकी खासियत यह है कि इसमें एक बार लिखे गए कोड को दुबारा एग्जीक्यूट करने के लिए फिर से लिखने की आवश्यकता नहीं होती है इसलिए यह scripting के लिए सबसे अच्छी भाषा मानी जाती है।

Easy Debugging 

पाइथन line wise execute होती है यानी की यदि आपने 7 line का कोई कोड लिखा है तो सबसे पहले पहली लाइन execute होगी फिर दूसरी लाइन execute होगी एवं इसी प्रकार लाइन दर लाइन पूरा कोड execute होगा ।
यदि किसी भी लाइन में कोई error प्राप्त होती है तो execution वहीं रुक जाता है एवं आगे की lines execute नहीं होती है। इससे developer को आसानी से यह पता चल जाता है कि किस लाइन में कौन सी error है। इससे Debugging बहुत आसान हो जाती है।

Cross platform language 

पाइथन भाषा लगभग सभी प्रकार के platforms जैसे Windows,  mac , UNIX एवं Android पर आसानी से run कराई जा सकती है तथा एक platform पर लिखा हुआ कोड दूसरे platform पर as it is चलाया जा सकता है, जो इसे एक portable भाषा बनाता है। इसलिए यह एक cross platform language है।

Object oriented language 

पाइथन एक object oriented एवं high level language है। इसके साथ ही यह classes एवं objects की अवधारणा तथा polymorphism,  inheritance, encapsulation का समर्थन भी करती है।

Has large standard libraries 

पाइथन में 125,000 के साथ ही पूर्व निर्मित modules एवं codes के सेट मौजूद होते हैं जो developers की complex works करने में सहायता करते हैं।

Open source language 

पाइथन भाषा का source code , python.org पर स्वतंत्र रूप से उपलब्ध होता है जिससे कोई भी व्यक्ति मुफ्त में इसे download कर सकता है।

High level language 

High level भाषा होने का अर्थ है मनुष्य के लिए ज्यादा तथा computer के लिए कम पठनीय भाषा होना। पाइथन भाषा में हमें system architecture को याद रखने की जरूरत नहीं होती है। यह memories को अपने अनुसार manage कर लेता है जिससे developer को memory manage करने की आवश्यकता नहीं होती है।

GUI programming support 

पाइथन भाषा एक GUI programming support प्रदान करता है। इसकी सहायता से (PyQt5, wxPython) graphical user interfaces design किया जा सकता है।

Dynamically Typed

पाइथन एक dynamically typed language है अर्थात कोड लिखते समय इसके variables का data type बदला जा सकता है। इसमें variables का data type, program run करते समय ही ज्ञात होता है। 

Features of python in hindi - What is python in Hindi

पाइथन के लाभ एवं हानि (Advantages and disadvantages of python)

यदि आप पाइथन भाषा सीख रहे है तो यकीनन आपको इसके लाभ एवं हानियों की अच्छी समझ होना आवश्यक है। तो आइए बड़ते हुए क्रम में हम पाइथन भाषा के लाभ एवं हानियों को समझते हैं।

Advantages of Python in Hindi

  • पाइथन भाषा का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह सीखने के लिए सबसे सरल भाषाओं में से एक है।
    कोई भी व्यक्ति इसे आसानी से सीख सकता है तथा
    General purpose language होने के कारण यह सामान्य कार्यों में काफी उपयोगी भी है।
  • पाइथन भाषा की maintenance cost बाकी भाषाओं से काफी कम है।
  • यह Software या Application के अंदर कोड bugging की process को शुरू नहीं होने देता है
    जिससे काफी नुकसान होने से बच जाता है।
  • यह भाषा लगभग हर क्षेत्र में उपयुक्त है , तो यदि आप इस भाषा को सीखते हैं तो आप किसी भी क्षेत्र जैसे ML , AI , Data science,  game development,  software development,  CAD applications एवं business applications  आदि में एक अच्छी तनख्वाह के साथ अपना करियर बना सकते है।
  • इसके सरल और तेज execution के कारण इसे “ready to run language” भी कहते हैं।
  • इसमें कई Sython एवं Jython जैसी libraries  होती है जो cross platform develop करके इसे C , C++ तथा Java जैसी भाषाओं से जोड़ने का कार्य करती हैं।
  • यह कई प्रकार के systems  तथा platforms जैसे UNIX, Mac OS, OS/2, एवं Microsoft windows 98 आदि का समर्थन करती है।
  • यह एक open source भाषा होने के साथ साथ-साथ embeddable भी है यानी की इसके source code में अन्य भाषा के कोड डाले जा सकते है तथा अन्य भाषाओं के source code में इसके कोड डाले जा सकते है।
  • इसमें अनेक प्रकार की libraries,  modules तथा framework tools की एक बड़ी श्रृंखला मौजूद है जो इसे widely applicable बनाती है।

Disadvantages of Python in Hindi

  • पाइथन बाकी languages के मुकाबले काफी धीमी गति से कार्य करने वाली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।
  • मोबाइल फोन्स या android systems के लिए अत्यंत उपयोगी भाषा नहीं है।
  • इसके इस्तेमाल में memory की खपत काफी ज्यादा होती है।
  • इसमें सीमित range तक ही data base interaction होता है।
  • पाइथन line wise execution की वजह से run time error देती है जो इसकी speed को काफी हद तक प्रभावित करता है।
  • क्योंकि यह एक Dynamically typed language हैं, इसमें variables के data type को या variables को change किया जा सकता है।
  • पाइथन भाषा का Data base, JDBC एवं OBDC जैसे Application Programming Interfaces की तुलना में underdeveloped माना जाता है।
  • ज्यादातर पाइथन codes पर test run करना काफी मुश्किल होता है क्योंकि इसमें errors सिर्फ run time पर दिखाई देती हैं।
  • पाइथन एक केस सेंसिटिव भाषा है मतलब इसके कोड्स लिखते समय आपको upper case तथा lower case का ध्यान रखना होगा।
    यदि आपने किसी variable में upper case में value store की है,
    तो आप उसको दुबारा उपयोग करते समय lower case का इस्तेमाल नहीं कर सकते, नहीं तो यह error कहलाएगी।

पाइथन कैसे सीखें (How to learn python in Hindi)

किसी भी coding language को सीखने के लिए सबसे आवश्यक होती है जिज्ञासा। यदि आप पाइथन भाषा सीखना चाहते है तो आपको इसमें रुचि बरकरार रखनी होगी। 

Coding languages सीखते वक्त हमें उचित रूप से notes बना लेने चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर हम notes देखकर codes revise कर सकें। प्रोग्रामिंग भाषा में रुचि बरकरार रखने के लिए अच्छा होगा कि आप हर दिन एक नया टास्क लेकर उसके कोड्स बनाए । आजकल internet पर कई सारे free online courses available होते है तो बेहतर यही होगा कि आप कुछ resources fix कर लें यानी किसी एक जगह से ही पूरा कोर्स करें।

सर्व प्रथम मूल सिन्टेक्स लिखना सीखें। जब मूल सिन्टेक्स बनने लगे तब  basic data structures के codes लिखना सीखें तथा उसके बाद प्रोजेक्ट पर कार्य करना प्रारंभ करें । कोई भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज सीखने के लिए सबसे आवश्यक यह है कि आपको उसके errors एवं bugs को ध्यान में रखना होगा।

नीचे दी गई वेबसाइट और कोर्स से आप पाइथन भाषा को आसानी से सीख सकते हैं

Learn Python Programming Masterclass

Google’s python class,
CodeCademy,
Educative,
Coursera,
Microsoft[edX] and
Free code camp
कुछ एसी websites हैं जहां से आप मुफ्त में पाइथन प्रोग्रामिंग सीख सकते हैं।

पाइथन के उदाहरण (Examples of Python in Hindi)

  • AI and machine learning – 
    पाइथन Artificial intelligence and machine learning के लिए सबसे श्रेष्ठ भाषा मानी जाती है। इसलिए यह data scientists की सबसे पसंदीदा भाषा भी मानी जाती है।
     
  • Data analytics
    AI and ML की तरह ही data analytics भी आज के समय का सबसे अधिक science विकासशील क्षेत्र है।
    पाइथन भाषा data को collect , organize and manipulate करने का एक अच्छा साधन है
    इसलिए data analytics के क्षेत्र में भी यह एक अहम भूमिका निभाती है। 
  • Data visualization –
    यह आज के समय का काफी popular क्षेत्र माना जा रहा है । पाइथन एक open source भाषा होने की वजह से विभिन्न प्रकार कि graphic libraries की सुविधा प्रदान करती है
    जिसकी विशेषताएं इस क्षेत्र के विकास के लिए काफी लाभ दायक है।
  • Programming Applications –
    पाइथन भाषा अपने स्पष्ट सिन्टेक्स की वजह से सभी प्रकार के interfaces एवं programs design करने के लिए उपयुक्त है।
    इसके अतिरिक्त यह block chain applications तथा audio and video apps को design करने में भी सक्षम हैं।
  • Web development –
    पाइथन भाषा में बहुत सारे web development frameworks मौजूद हैं जिनमें से आप अपनी आवश्यकतानुसार चयन कर सकते है । जैसे – Django, Pyramid and flask.
    यह frameworks कई applications बनाने में इस्तेमाल किये जाते है।
  • Game development
    पाइथन भाषा game development के क्षेत्र में भी उपयोग की जाती है।
  •  Language Development
    पाइथन भाषा का इतना साधारण तथा बहु उपयोगी होना नई भाषाओं को प्रभावित करता है जिससे वे भी सरल तथा आसान होने के साथ-साथ उपयोगी बन सकें।
    पाइथन द्वारा कुछ प्रभावित भाषाएं – Cobra , Coffee script,  Boo , falcon , JavaScript,  Ruby, D and Groovy हैं।

आपने जाना 

उम्मीद है उपरोक्त लेख (What is python in Hindi) से आपको पाइथन के विषय में काफी जानकारी हासिल हुई होगी। पाइथन एक general purpose, high level, object oriented, scripting language है,
जिसकी संरचना Guido Van Rossum द्वारा 1991 की गई थी और देखते ही देखते अपनी सादगी एवं सरलता के कारण यह आज विश्व की सबसे लोकप्रिय भाषा बन चुकी है। इसमें कई सारी विशेषताएं है जो इसे अन्य भाषाओं से ज्यादा अच्छा बनाती हैं।

इसका प्रयोग हर तरह के प्रोग्राम develop करने के लिए किया जा सकता है । अपनी Wide Applicability की वजह से यह “ ready to run language “ भी कहलाती है। आज के समय में एक अच्छा पाइथन developer 2 लाख से लेकर 8.3 लाख तक की अच्छी खासी income generate कर सकता है।

उम्मीद है आपको What is python in Hindi लेख पसंद आया होगा और आप पाइथन भाषा में रुचि बरकरार रखेंगे।