ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? Top Features of Operating System in Hindi

Operating system in Hindi में आप आसान भाषा में यह जानेंगे की, ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Operating system?), यह कैसे काम करता है, इसकी क्या-क्या विशेषताएँ होती है, ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते है (Types of Operating system)

हम आपस में बातचीत करते समय अलग-अलग भाषा का प्रयोग करते है। लेकिन कंप्यूटर केवल एक ही भाषा जनता है, वो है Machine language (0 और 1) अब सवाल ये ही की, हम कंप्यूटर से कैसे communicate करते है?

तो आईए जानते है,
Computer और अन्य devices से communicate करने के लिए operating system का प्रयोग किया जाता है।
यह यूजर और कंप्यूटर के बीच एक intermediate (मध्यवर्ती) का काम करता है और यह यूजर को कंप्यूटर पर काम करने का वातावरण प्रदान करता है।

साधारण भाषा में कहें तो हमारे द्वारा कंप्यूटर पर उपयोग किये जाने वाले सॉफ्टवेयर ऑपरेटिंग सिस्टम की मदद से ही चलते हैं
बिना OS के हम कंप्यूटर का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? What is Operating system in Hindi

Operating system (OS) एक बहुत मत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर है, जो हर कंप्यूटर पर चलाया जाता है।
यह यूजर और कंप्यूटर हार्डवेयर के बीच interface का काम करता है।

किसी भी program को चलाने लिए कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम का होना जरुरी है।
जैसे की MS Word, Photoshop, Chrome, Firefox आदि प्रकार के application को चलाने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम एक वातावरण प्रदान करता है।

इस सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव में install किया जाता है।
ऑपरेटिंग सिस्टम आपके कंप्यूटर के सभी हार्डवेयर के साथ communicate करके और सॉफ्टवेयर को चलाता है।

इसलिए बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के किसी भी कंप्यूटर, मोबाइल और सॉफ्टवेयर को चलाना संभव नहीं है।

Microsoft Windows XP इसका एक उदाहरण है, यह शुरुवात का सबसे लोगप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम माना जाता है।

Operating system in Hindi में आगे आप जानेंगे की यह काम कैसे करता है।

structure of operating system in hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम कैसे काम करता है? How does the operating system work?

ऑपरेटिंग सिस्टम एक resource manager है। यह कंप्यूटर सिस्टम के अंदर संसाधन का प्रबंधन करता है। जैसे की प्रोसेसर, मेमोरी, फाइलें और I / O डिवाइस आदि।

इसे दूसरे तरीके से समझते है, जब हम कंप्यूटर पर कोई भी application (MS Word, Chrome आदि) का उपयोग करते है,
तो ऑपरेटिंग सिस्टम उसके पीछे का कार्य करता है। जैसे की आप Chrome पर YouTube search करके कोई वीडियो देख रहे।
तो ऑपरेटिंग सिस्टम उस समय hardware से communicate करता है और speaker द्वारा आप उसे सुन सकते है।

OS निम्नलिखित resources को manage करता है –

Processor management – इसमें कार्य को CPU में जाने से पहले उन्हें एक क्रम में रखा जाता है और उनके साइज अनुसार उन्हें बंधा जाता है।

Memory management – इसमें OS डाटा को RAM में फिट करता है, और virtual memory के लिए आवश्यकता को तय करता है।

Device management – इसके द्वारा यह जुड़ी हुई devices के बीच interface प्रदान करता है।

Storage management – इसके द्वारा यह स्थायी डेटा संग्रहण (permanent data storage) को निर्देशित करता है

Application – OS के द्वारा एक application आपके कंप्यूटर और सॉफ्टवेयर के बीच standard communication बनाती है।

User interface – इसमें कंप्यूटर और यूजर के बीच communication बनता है

ऑपरेटिंग सिस्टम का इतिहास क्या है? – What is the history of operating system in Hindi

Generation of Operating system

ऑपरेटिंग सिस्टम की प्रथम पीढ़ी – (1945-1955)

पहले mechanical relays के साथ calculating engine का उपयोग किया जाता था। उन कम्प्यूटरो का आकार बहुत बड़ा होता था और वह बहुत धीमी गति वाले कंप्यूटर होते थे।

उस समय कोई भी ऑपरेटिंग सिस्टम का प्रयोग नहीं किया जाता था।
Machine language का उपयोग करके programming की जाती थी और machine के basic function को control करने लिए plug-board का प्रयोग किया जाता था।

इस पीढ़ी में जितनी भी प्रकार की समस्या आती थी। वह सभी समस्या simple numerical calculations में होती थी।

1950 में जब punch card का आविष्कार हुआ। तो plug-board की जगह program कार्ड में लिखा गया और system में उसे पढ़ा गया था।

ऑपरेटिंग सिस्टम की दूसरी पीढ़ी – (1955 -1965)

दूसरी पीढ़ी में कंप्यूटर के विकास के लिए transistor का प्रयोग किया। इन मशीनों को mainframe के रूप में भी जाना जाता था।

उस समय कंप्यूटर को air conditioner room में रखा जाता था और staff कंप्यूटर को उसी रूम में चलाता था।
ऑपरेटिंग सिस्टम की दूसरी पीढ़ी में Batch System को पेश किया गया।

जिसमे इनपुट और आउटपुट के लिए Magnetic tape का उपयोग किया किया गया था।

ऑपरेटिंग सिस्टम की तीसरी पीढ़ी – (1965 -1980)

ऑपरेटिंग सिस्टम की तीसरी पीढ़ी में 1960 तक, दो कंप्यूटर का आविष्कार किया गया पहला scientific और दूसरा commercial कंप्यूटर।

इन दोनों कंप्यूटर को IBM ने System /360 नाम से combined किया। इसमें integrated circuits का उपयोग किया गया था।

तीसरी पीढ़ी में multi programming ऑपरेटिंग सिस्टम शुरू हुआ।
जिससे की काम समय में काम पुरे किये गए और यह कंप्यूटर दूसरी पीढ़ी की तुलना में ज्यादा अच्छा प्रदर्शन दे रहे थे।

ऑपरेटिंग सिस्टम की चौथी पीढ़ी – (1980 – वर्तमान तक)

चौथी पीढ़ी के personal computer में कंप्यूटर में large scale integrated circuits का उपयोग किया गया।
यह एक प्रकार की silicon chip होती है। जिसमे हज़ारों transistor का प्रयोग किया जाता है।

एक छोटी चिप के कारण कंप्यूटर की कीमत भी कम हो गई और यह पहले से ज्यादा गति से कार्य करने लगे।

Personal computer में network का विकास हुआ।
जिससे network operating systems और distributed operating systems बनाये गए और इनके
उपयोग से एक मशीन से दूसरी मशीन में files भेजी जाने लगी।

Generation of computer in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएँ – Features of operating system in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम में कई विशेषताएँ है, जो इसके विकास के साथ दिनों दिन बढ़ती जा रही है।
1950 में इसका विकास storage tape को संभालने के लिए किया गया था और आज यह interface के रूप में कार्य कर रहा है।

नीचे आप OS की निम्नलिखित विशेषताओं के बारे में जानेंगे –

feature of operating system in hindi

सुरक्षा

सिस्टम में store personal data और information को ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा सुरक्षित किया जाता है।

यह सिस्टम को सुरक्षित करने लिए यूजर को एक strong authorized keys प्रदान करता है। इस key के द्वारा सिस्टम को मैलवेयर अटैक से भी सुरक्षित किया जाता है।

OS सिस्टम को password से सुरक्षित करता है। यह यूजर से पहले login करवाता है। इसमें फाइल्स को भी password देकर डाटा को सुरक्षित किया जाता है।

जब कोई unknown user फाइल्स को ओपन करता है, तो OS उससे password मांगता है। इस प्रकार ऑपरेटिंग सिस्टम हमारे डाटा को कंप्यूटर में सुरक्षित रखता है।

प्रोसेस मैनेजमेंट

इसके द्वारा OS प्रक्रियाओं को शुरू करने में और उसे खत्म करने में मदद करता है और
यह प्रक्रियाओं के बीच सिंक्रनाइज़ेशन और संचार के लिए mechanisms भी प्रदान करता है।

मेमोरी मैनेजमेंट

मेमोरी मैनेजमेंट द्वारा यह संसाधनों की आवश्यकता वाले प्रोग्राम में मेमोरी स्पेस का allocation (आवंटन) और de-allocation का कार्य करता है।

जब मेमोरी भर जाती है तो यह फाइल सिस्टम को अलर्ट करता है और डिस्क स्पेस भी पूर्ण बताता है।
इसलिए समय-समय पर मेमोरी और स्टोरेज डिवाइस को देखने की सलाह दी जाती है

डिस्क मैनेजमेंट

डिस्क मैनेजमेंट द्वारा OS फाइलों से संबंधित गतिविधियों जैसे की फाइल में सुधार, फाइल का नामकरण, फाइल sharing, फाइल storage और फाइल की सुरक्षा करने की अनुमति डिस्क को प्रदान करता है।


I/O सिस्टम मैनेजमेंट

OS हार्डवेयर के अजीब व्यवहार को प्रभावी रूप से छिपाने के लिए input /ouput operations को control करता है।

डिवाइस मैनेजमेंट

ऑपरेटिंग सिस्टम device और printer controlling को manage करता है और एक correct flow की permission देता है।

डिस्क मैनेजमेंट सिस्टम से जुड़े सभी हार्डवेयर और यूजर द्वारा उपयोग किये जाने वाले संसाधन को ट्रैक करता है और I/O controller भी इस कार्य के लिए जिम्मेदार होता है।

ऑपरेटिंग सिस्टम के लाभAdvantages of Operating system in Hindi

यह यूजर को एक वातावरण प्रदान जिसमे program/applications को execute कर सकते है।
OS application और hardware components के बीच मध्यस्थ के रूप में कार्य करता है।

यह GUI (Graphical user interface) प्रदान करता जिसके कंप्यूटर सिस्टम का उपयोग आसानी से किया जा सकता है।

यह कंप्यूटर सिस्टम के सभी हार्डवेयर और सभी सॉफ्टवेयर के बीच intermediator का कार्य करता है।


ऑपरेटिंग सिस्टम के अलाभ – Disadvantages of Operating system in Hindi


अगर आपके कंप्यूटर में किसी भी प्रकार की समस्या आती है, तो आप अपने कंप्यूटर में स्टोर डाटा खो सकते है।

इसलिए आपको समय-समय पर अपने डाटा को सुरक्षित करना होता है।
यह ऑपरेटिंग सिस्टम थोड़े महंगे भी हो सकते है।

आपने जाना –

Operating System in Hindi में आपने जाना What is Operating system in Hindi, what is the history of Operating system, Features of Operating system,
History of Operating system, Generation of Operating system, Operating system kya hai?
और ऑपरेटिंग सिस्टम के फायदे और नुकसान।

यदि आप ऑपरेटिंग सिस्टम से सम्बंधित कोई भी प्रश्न का उत्तर चाहते है, तो हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट अवश्य करिये हम आपको उस प्रश्न का जवाब देंगे और इस जानकारी को अपने दोस्तों में शेयर करिये।

Operating System in English

Leave a Comment